Saturday, July 12, 2008

raat khwab me

रात ख्वाब मे क्या देखता हूँ
की उसने अपने हाथों से अपना फ़ोन नंबर
मेरे हाथों पर लिख दिया है
और अपने घर का पता बताया है
मुझे बुलाया भी है


जागता हूँ तो हाथों पर क्या देखता हूँ
हाथों पर नम्बर तो मिट चुका है
पर हथेली पर कलम चलने का निशान बाकी है
उसके घर का पता तो याद नही है
पर अभी भी यादों मे एक मकान बाकी है

मानस भारद्वाज

13 comments:

श्रद्धा जैन said...

Raat haathon main tera naam likh diya.
raat bhar tujhko hi sunaata raha
Teri hansi, rona tera, aadat teri batata raha
Man mera tera hi deewana hai, tujhko mujhse wo milata raha
Ab aa jaao tum kabhi saamne, din ko sunhara tum kar do,
Raat beeti bahut aaram se, din mujhko abhi tak jalata raha

Akshaya-mann said...

पर हथेली पर कलम चलने का निशान बाकी है
उसके घर का पता तो याद नही है
पर अभी भी यादों मे एक मकान बाकी है

manas bhaiyya accha likha hai....
lekin ye angreji word use na kkya karo maja nahi aata phir........

गिरीश बिल्लोरे 'मुकुल' said...

yaar bhaanje jee ab to kamaal kar rahe

pawan arora said...

kya baat hai yaar manas yaar kismat wala hai uska makaan kai nishaan to mil gaye aur yaadast bahut achchi hai yo subah tak yaad raha .....likha bahut achca hai

Dr. RAMJI GIRI said...

ख्वाब का हकीकी पहलु खूबसूरत है...

bhawana said...

khwab ki tarah aapki rachna bhi khoobsoorat aur abhivyakti bhi sunder...achchi bhaavpoorna rachna...

मैं.... said...

अभी भी यादों मे एक मकान बाकी है
....
bahut pyare ehsaasat hain...
Manas ne abhi muthhi bhar zamee naapi hai..
aage saara aasmaan abhi baaki hai...
bahut aage jaayega mera bhai..
"Subhkamnayein"

Gita pandit said...

छोटी लेकिन बोलती सी....
भावपूर्ण रचना........

बधाई......


मानस जी.....



कम से कम इतना तो है वो,सपनों में तो आते हैं,
मेरी यादों को फिर से ,जीवन का भ्र्म दे जाते हैं,

गीता पंडित (शमा)

Kavi Kulwant said...

very nice..

GIRISH said...

मुझे बुलाया भी है could be avoided.

Rest is nice.

pathik said...

उर की निदा को क्या मंजू परिधान दी है आप,सदाकत में.........

Anonymous said...

जागता हूँ तो हाथों पर क्या देखता हूँ
हाथों पर नम्बर तो मिट चुका है
पर हथेली पर कलम चलने का निशान बाकी है
उसके घर का पता तो याद नही है


wah .kya khub likha hai ..............

GOPAL K.. MAI SHAYAR TO NAHI... said...

NICE