Wednesday, June 25, 2008

कुछ मिसरे अभी जिंदा हैं

मैं बंजारों की तरह दुनिया भर के किनारों पे फिर हूँ
तुझसे बचने के लिए तेरे इशारों पे फिर हूँ

मैं बुद्ध नही हूँ पर दुनिया छोड़ चुका हूँ
अपनी हस्ती मिटाकर ख़ुद से भी मुँह मोड़ चुका हूँ
जंगल नदियाँ पर्वत पानी बादल पंछी खुशियाँ वीरानी
सिर्फ़ तुझे ही नही छोडा इन सब को भी छोड़ चुका हूँ

मैं शब्द शब्द से नाता तोड़ भावों से मुँह मोड़ चुका हूँ
प्यार की ख्वाइश इतनी करी की प्यार की ख्वाइश छोड़ चुका हूँ
मुझे जेहर की आदत हैं जेहर पे जिन्दा रहता हूँ
न कंठ नीला हैं न साँप लिप्त हैं पर तीसरी आँख खोल चुका हूँ

मानस भारद्वाज

10 comments:

Anonymous said...

मैं बंजारों की तरह दुनिया भर के किनारों पे फिर हूँ
तुझसे बचने के लिए तेरे इशारों पे फिर हूँ
2 gud ................

zaakir hadi said...

kay khayal he apka me banjaaro ki taraha dunia bhar ke kinaro pe phira
nazam ki samajh se lagta koi mahan shayar na likhi he par dua se aaap ko kafi jawan he me dua karunga aap bahut aage nikloge
itne sundar khayal
uymeed he apki agli nazam issce bhi acchi hogi

GIRISH said...

You have started with किनारों and इशारों

but soon fogot and used छोड़.. मोड़..
खोल

You have to continue with one style of words to maintain the ridham of the poem.

Anonymous said...

"kinaro ko to buzdil pakadte he par jaanbaaz zahazi ko kaha tufaano ki parwaha rahi heeeeee "
pata he mera sheer kisi ko pasand nahi aaiaga mujhe sahi se likhna nahi aata he
sher likhna to mere liye bahut badi baat ho jaegi bas tammana he ki aap jaisa kabhi kuch likhu
best of luck for future
shwlin raaj

Anonymous said...

bahut badhiya he par zarra sa aur accha likhne ki koshisa karo ab humara to zammana gaya par ab sukun he tum jaise naujawaan bhi sahayri me
apni zindagi talash karte he

khabaree said...

hi
nice

रश्मि प्रभा said...

त्रिनेत्र खुल चुका है जो आवश्यक है...........
बहुत भावपूर्ण,gr8 .................

Dr. RAMJI GIRI said...

Sudar marmsprashi bhav hain...

DIL APKA said...

wah manas bhai..wah....
ab itni badiya rachanaye hai..tareef ke liye shabd kahan se laye...
good...keep it up..............

DIL APKA said...

rajesh gunnu.........