Wednesday, February 18, 2009

तेरे लिए बड़े बेताब हो रहे हैं
आजकल हम ही आफताब हो रहे हैं

हमने ही चाँद को चलना सिखाया था
हमारे कारन समन्दरों मे सैलाब हो रहे हैं

तू मेरा हाथ पकड़ के चल रही हैं
आजकल आंखों मे बड़े ख्वाब हो रहे हैं

मुझे धीरे धीरे मारने वालों ध्यान रखना
मेरे लहू के कतरे तेजाब हो रहे हैं

मानस भारद्वाज

3 comments:

Vijay Kumar Sappatti said...

wah ji wah

आजकल आंखों मे बड़े ख्वाब हो रहे हैं

kya khoob likha hai
maza aa gaya

aajkal kahan ho yaar
kityne baar phone kiya hai , mil hi nai paate ho
kya baat hai ..
bade busy chal rahe ho..

aapka
vijay

Meet's world of poetries said...

FANTASTIC .........bahut achha likha hai apne
each line is touching...gr8 work

Yogesh said...

bahut badhia Manas !!

Too good...
har ek line, bahut hii badhiya...

Har sher lajavaab !!

Katl !! Maar Daalaa...

http://tanhaaiyan.blogspot.com