Monday, May 5, 2008

आज फिर वो पन्ना निकल आया था

आज फिर वह पन्ना निकल आया था
जिसमे पीले गुलाब की वो कली रखी थी
जो किसी ने मांगी थी मैं नही दे पाया था
उस तोहफे को मैं तोड़ लाया था
इसी किताब के उस पन्ने मे मैंने चोरी चोरी छुपाया था

आज उस पन्ने को देखकर आंख भींग जाती है
पर पीले गुलाब की वो कली देखकर
मीठी मीठी याद आती हैं
मैं तो बार बार मर रहा था
इसी पन्ने ने मुझे जीना सिखाया था
इसी कली की तो लेकर प्रेरणा
मैंने जीवन को अपनाया था

आज फिर वो पन्ना निकल आया था

मानस भारद्वाज

15 comments:

Amit K. Sagar said...

भारद्वाज जी, सचमुच आपकी रचना बहुत बहुत बहुत सरल शब्दों में जीवन के सबसे सहज व सरल सार यानी प्रेम को दर्शाती है. रचना के भाव दिल में उरारते ही बनते हैं. बहुत खूब. इस रचना ने मेरे दिल में अन्यस्य ही जगह बना ली, अब ये मेरी भी प्रिय रचना है, मुझसे इससे इनकार नहीं. {कृपया मुझे मेल भी कर्देंगे, ख़ुशी होगी.} रचना हर मायने में बेहतर है मित्र. (शुक्रिया दिल को छुलेने वाली रचना से मिलाने के लिए)
---
शुभकामनाओं सहित
सादर;
~अमित के. सागर~

Nandu.. said...

very nice yaar...mind blowing poem....

Apoorva said...

beautiful....na jane kitnon ko aapne apni kavitaon se jeena sikhaya hoga.....man ko bha gayi aapki panktiyan...:)

रश्मि प्रभा said...

एक गुलाब यादों भरी,
यादों का सिलसिला,कुछ कही, कुछ अनकही .....
बहुत कुछ कह गई ......

Akshaya-mann said...

aaj phir wo panna nikal aaya
mere jivan ka ek kadwa sach
meri aankho ke saamne
ek kitab main pila gulab bankar
mujhe jajhodta nazar aaya
aaj phir wo panna nikal aaya

bhai ye meri kuch lines jo aapki kavita ko samarpit hain bas itna hi khena chahuinga........

Kavi Kulwant said...

Achchi rachana hai..

Udan Tashtari said...

बहुत बढ़िया रचना है.बधाई. नियमित लिखें, शुभकामनाऐं.

Anonymous said...

MANAS AAP SACH MAIE HI BAHUT ACHA LIKHTE HO >>>>>>>KEEP IT UP

N GOD BLSS U

tanhayiyaN said...

nice poetry manas ji.wah

shrdh said...

Ek gulab aur unki yaaden bahut hi saral sabdon main jeevan aur pyaar ko bataya hai

Manas aapko padhna achha laga
ab kalam fir se chal padhi hai to apna naam last poem se bahata dariya kar le

A said...

pehli rachna ke hisaab se kafi sahi hain. hamari duaaaye aapke saath hain... behtar se behtarin hote jaye.....

Ramji1 said...

dost main Ramji Yadav mujhe aapki kabita acchi lagi or main ye dabe ke sath kahta hoon ki aap ek din bahut kamyab honge or isse bhi jayda acchi lagi apki ye tarike jisese ki logo tak aap pahucha rahain hai blog bana ke aaj to mera office hr katam ho gaya kal main bhi ek blog banuga kabita mujhe bhi bahut pasand hai ek tume pess kiya hoon . bye reply dena jarur

वक़्त मुझे इतना भी मजबूर ना करे,
कम से कम यादो से तेरी दूर ना करे.
शोहरते बदल देती है रिश्तो के मायने,
मुकद्दर मुझे इतना भी मशहूर ना करे.
कम से कम यादो से तेरी दूर ना करे.
दौलत ,तरक्की या फिर कामयाबीया मेरी ,
ये वक़्त की ऊंचाईया मगरूर ना करे.
कम से कम यादो से तेरी दूर ना करे.
जुदाई भी दी है उन्होने तौफे में 'शफक' ,
कैसे भला कोई इसे मंजूर ना करे.
कम से कम यादो से तेरी दूर ना करे

RAMJI YADAV

Keerti Vaidya said...

its so touchy......

मैं.... said...

मानस तुम्हारी कविता पढ़.. एक मिसरा याद आया..
"कर रहा था मैं... ग़म-ए-जहाँ का हिसाब.."
आज तुम याद.. बेहिसाब आये"
प्यारी कविता लिखी है....!

Dr. kavita 'kiran' (poetess) said...

zindgi ke wo khubsurat panne, jo dil ki kitab main darz ho jate hain, unhe sahejkar rakkhen manas!

shubh deepawali!